#Loveuary ❤KissOfLife! #Day13

#blog #kiss #life #loveuary #feel

कुछ अहसास एहसासों में हीं रहें..ना जानें गए न हीं मुकम्मल हुए!!❤

सुनसान राहों में बेतरतीब मेरे कदम बस बढ़ रहें थे…मंजिल कहाँ थीं.. कुछ खबर न थी कभी,न हैं..बस चलना हैं इसलिए चल रहें हैं…आज तो ये हवा,चाँदनी रात,धुन्ध,स्याह ज़िन्दगी का हर रंग आज बस कानों में गुदगुदी करते हुए कुछ कह रहे थे..आज मन में अजीब सी कौतूहल मची थीं,फिर भी न जाने क्यों..इन राहों से गुजरती मेरी कदम ठिठक रही हैं,बस अचानक से हीं ये प्रकृति की कृतियाँ मुझे चुम के ये दिलासा दे रहीं थी की..मानों वो हैं मेरे साथ हमेशा!! हवायें यूँ मेरी जुल्फों को चेहरे से कभी हटा रहीं थी कभी वही ला के बिखेर रहीं थी,मानों बार-बार चूमते हुए कह रही हो…आओ ज़रा मिलकर बैठते हैं,और तुम्हें अपनी जादुई चुम्बन से एक ऐसा सम्बल देते हैं कि तुम खुद अपने सभी दुःख आज यहिं बाँट लोगे और मुझसे ज़िन्दगानी जीने का हौसला लोगें!! और ये चाँद भी कहाँ पीछे थी आज ये बस एकटक मुझे देखते हुए..धीरे-धीरे चलते हुए आसमानों से आकर मेरे माथों को चूमते हुए बस ये कह रही थी की तुम मुस्कुराओ की तेरे लबों पर थिरकती हँसी के लिए मैं तुमसे तुम्हारे आँखों की पानी बाँट लूँगा आज…ये उड़ते पत्ते..मेरे काँधे को यूँ चूमते हुए मेरे कानों में फुसफुसा रही थीं और कह रही थी की…तुम यूँ समझदार न बनों, और आज बस खुल कर वो सब नादानी करों जो करने से तुम्हारा दिल खुश होता हैं और आज बस अपनी समझदारी मुझसे बाँट लो!! पैरों को चूमते हुए ये धूल और ये सौंधी मिट्टी बस इतना कह रहीं थी मुझे…तुम आज ये न सोचों की क्या बाँटें क्या नहीं बस आज अपनी दुःखों के संदूकों से सभी तह लगाये परेशानी बाँट लो…मेरे होंठों को चूमते हुए आज ये रात भी आखिर कह हीं गयी…आओ की आज बाँटने में एक मिसाल कायम करतें हैं, तुम अपना सबकुछ बाँटों और हम सिर्फ आज इश्क़ की रश्मों को निभा कर तुमसे ये चुम्बन हीं बाँट लेंगें!! 

 P.C-Google

❣EmotionalQueen All Rights Reserved©
               

                     2k17©आपकी…Jयोति🙏

Advertisements

34 thoughts on “#Loveuary ❤KissOfLife! #Day13

    1. Thanks you bhaiya…वो कहते हैं न की अंग्रेजी में जब कच्चे रहो तो भयंकर हिन्दी सिख लेनी चाहिए…😉😂😂

      Liked by 2 people

  1. Wow..how can someone write so beautifully and expressive post…..dil hi khush ho jata h padh kar ….. .बस चलना हैं इसलिए चल रहें है kya baat hai …kya gahri soch ar sachai ka misran h…. तुम यूँ समझदार न बनों, और आज बस खुल कर वो सब नादानी करों जो करने से तुम्हारा दिल खुश होता हैं और आज बस अपनी समझदारी मुझसे बाँट लो….lajawab

    Liked by 1 person

      1. अरे! ऐसा क्यों… हमलोग रोज एक-दूसरे से हीं सीखते हैं..आपसे भी जुड़ना सौभाग्य हैं! धन्यवाद💐

        Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s