❤बातूनी इश्क़!

#love #trust #care #life #blog #soulmate

अक्सर मैंने लोगों को ये कहते हुए सुना है कि प्रेम बेशर्त होता है उसमें कोई बंधन नही होता,और सच्चे प्रेम में कोई अभिलाषा भी नहीं रखनी चाहिए…होता होगा प्रेम ऐसा भी या यूँ कह लूँ लोगों के लिए उनका सच्चा प्रेम ऐसा हीं होता होगा जिसे वो सच्चा प्यार का नाम देते हैं!! लेकिन मैं तो प्यार को लेकर बहुत स्वार्थी हूँ….मेरी समझ में तो प्रेम, दो लोगों के दरमियाँ तब पनपता है जब चाहते दोनों के दिलों में अंकुरित होती हैं एकदूसरे की साथ की….सिर्फ चाह लेने भर से, सोच लेने भर से प्रेम नहीं हो जाता। मैं तो इतनी प्रैक्टिकल हूँ अपने प्यार को लेकर की लोग उसे पागलपन का नाम देने से भी नही हिचकेंगे…

मुझे प्रेम में अभिव्यति पसंद है…मैं चाहती हूँ, वो मुझ से प्यार जतायें। मुझे पता है कि उसके मन में प्रेम है,तो मुझे उस प्रेम में भीगोएं। प्रेम में मुझे बंधना पसंद है और मुझे अपने प्रेम में बिल्कुल किसी स्पेस की जरूरत नहीं है क्योंकि मुझे इस बंधन से प्रेम है। मुझे उनके साथ हर पल जीना पसंद है। उसके साथ अपने आने वाले दिनों के लिए सपने खुली आँखों से देखना पसंद है। और एक ही चाहत है मेरी, उनके लिए सपने नहीं देखना चाहती मैं बल्कि उनके साथ सपने देखना चाहती हूँ,उनके नाम के साथ अपना नाम जोड़ कर ज़िन्दगी जीना चाहते हैं। वो सारे संजोये खाव्बों को हकीकत में जीना चाहते है… पहली बार हमने किसी में अपना ख़ुद का अक़्स देखा है वो भी ख़ुद से ज़्यादा ख़ूबसूरत। तुमसे बात करते करते कई बार लगता है के जैसे ख़ुद से बात कर रहें हो। ऐसा जैसे कभी कभी मालूम हो के मेरे “ये” कहने पर तुम “वो” कहोगे और तुम हर बार “वो” ही कह देते हो। दिल पहले ही जान जाता है के किस बात पर तुम्हारा क्या रीऐक्शन होगा। हमारी पसंद-नापसंद भी एकदम एक सी हीं तो है!!

मेरी अनंत इच्छाएं,आशाएं,उम्मीदें जुड़ी हैं उनसे, उनके प्रेम से,हमारे प्रेम से…और एक बात मेरा प्रेम कई बार बहुत ज्यादा स्वार्थी हो जाता है,जबकि कहा जाता है, प्रेम में स्वार्थ नहीं रखना चाहिए लेकिन मैं तो रखती हूँ स्वार्थ और अक्सर स्वार्थी हो जाती हूँ,और मेरी मानों तो जो प्यार में स्वार्थी नहीं होते उनका प्यार सच्चा से कुछ कम होता होगा…मुझे तो उन पर सारा अधिकार सिर्फ मुझे हीं चाहिए होता है। उनके सारे पलछिन मुझे चाहिए होते हैं। उनके सोच में भी कोई और आये,ये सोच कर भी मन को बुरा लग जाता है। जबकि ये मुझे अच्छे से पता है वो कितना प्यार करते है मुझे!❤ 

उनका…हर सुबह उठ के बड़े प्यार से मुझे जगाना कितना भी उलझन हो मन में दुनियादारी को लेकर फिर भी उसे दरकिनार कर के बस मुझें यूँ प्यार करना कि मानों उनकी दुनिया मुझी से शुरू और मुझीं पर खत्म होती है.. खुद के खाने का समय हर दिन ऊपर नीचे होता हो, लेकिन मेरे खाने और सोने का समय निर्धारित रखतें हो…और नियत समय पर बच्चों के जैसे सुलाना और पास में तब तक रहना जबतक ये यक़ीन न हो जाये कि मैं गहरी नींद में सो गई हूँ! और मेरी हर बेवकूफ़ी, ज़िद ,गुस्से को भी मुस्कुराहट के साथ स्वीकारना और मुझे हर बार संभाल के बाहर निकाल लाना अवसाद की स्थिति से भी और चेहरे पर पहले वाली बेपरवाह मुकुराहटें वापस जबतक नहीं ले आये तब तक चैन से नहीं बैठना ये इश्क़ नहीं बल्कि जुनूनीयत हीं तो है आपका….पता हैं आप माँ हो मेरे!❤ वैसी माँ जो अपनें नवजात बच्चें को संभालते हुए अपने साथ जुड़े हर रिश्ते और जिम्मेदारियों को भी बख़ूबी निभाती हैं और बहुत थकें होने के बाद भी अपने बच्चे की सूरत देख के अपना सारा थकान बिसर जाती हैं!! 
….और बताओ ऐसा कभी हमदोनों ने एकदूसरे को बोला है क्या बाबू, नहीं न…बल्कि मुझे अक्सर ये सुनना पड़ता है…10ग्राम मुझे भी सुन लें न गोलू❤…..और किसी-किसी दिन मैं जब नाराज रहती हूँ और रौद्र रूप धारण करके गला फाड़ के चिल्लाती हूँ ~बात मत करना मुझसे तुम😡
~(फिर तुम सहजता से कहते हो)ठीक है गोलू!😢

…और फिर हमेशा की तरह गलती मेरी होती है,चिल्लाया भी मेरे तरफ से जाया जाता है लेकिन मनाया हर बारी तुम्हारे तरफ से जाता है एक प्यारा सा तुम्हारी मीठी आवाज़ में सांग सुना कर और उससे पहले मेरे गुस्से का टेम्परेचर चेक किया जाता है…टेक्स्ट भेज कर…तुम्हारे अनुसार मैं जब हम्म्म्म में जवाब देती हूँ तो उस  वक़्त मैं नार्मल होती हूँ…😍😍😍

ऐसा हैं मेरा बातूनी इश्क़…ये है मेरा प्रेम,मेरा जुनूनीयत❤कभी स्वार्थ से भरा तो कभी सूफ़ियाना…कभी उनको महादेव की तरह पूजती हूँ और कभी महादुष्ट समझ के कूट देती हूँ। क्या है, कैसा है, कितना है, नहीं जानती हूँ,…हाँ लेकिन उनके लिए मेरा प्यार ऐसा हीं है….Tan 90° के मान जितना!!

हज़ार रंग है दुनिया में लेकिन मेरे लिए एक साँवला रंग तुम्हारा!!❤

 All rights Reserved Emotional Queen 2k17©                     

                            ©2k17आपकी…Jयोति🙏

Advertisements

43 thoughts on “❤बातूनी इश्क़!

  1. चाशनी से भरपूर बातें करके मूल भाव को सबके समक्ष प्रस्तुत करना कोई आपसे सीखे !
    कोई भी कायल हो जायेगा ऐसे अद्भुत लेखन का , कोई कोशिश करके भी इतना सरल नहीं लिख पायेगा !
    अद्भुत!

    Liked by 1 person

  2. bahut hi khubsurat likha bahut khub jyoti ji

    कभी उनको महादेव की तरह पूजती हूँ और कभी महादुष्ट समझ के कूट देती हूँ।

    ye line mujhe sabse jyada pasand aaya

    Liked by 3 people

      1. I am somewhat fine… I too missed you…
        Don’t go on long holiday’s again…😂
        Some serious business have went around here when you were off… Some blog awards you received…Go check them😉

        Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s