तुम हो सृजनकर्ता…🌺

#Love #Life #Fiction #Self-love #Self-respect #Wordpress #Blog

कौन कहता है कि तुम्हारा ‘प्रेम’ कमज़ोर है। तुमने हीं तो रचा है आज उसकी जो छवि है, उसमें उसका कुछ भी नहीं है। तुमने सृजन किया है उसका। जब तुम उसका त्याग कर दोगी तो वो पुनः वही साधारण इंसान भीड़ का एक हिस्सा बन कर रह जायेगा।

वो जब तक तुम्हारे साथ है तभी तक ख़ास है। क्युँकि उसमें जो कुछ भी ख़ास है उसे तुमने ढूंढा है। बिना प्रेम वो एक ठूँठ पेड़ से ज्यादा कुछ भी तो नहीं रह जाएगा। तुम्हारा प्रेम हीं तो उसे सिंचित करता आया है। तुमने हीं उसे जीवन के वो रंग दिखलाये है जिसे उसने सिर्फ पढ़ा था। तुमने उसे प्रेम से भर दिया,जीने के सही मायने सिखलाया।….तो अब जब उसे तुम्हारे होने नहीं होने से फ़र्क़ नहीं पड़ता तो छोड़ दो उसे उसके हाल पर। यकीन मानों उसे उस कदर कोई नहीं चाहेगा जैसे तुमने चाहा होगा। तुम प्रेयसी से, पत्नी से माँ और माँ से सखी बनी। फिर उसे घुटन लगने लगा ये सब तो जाने दो उसे। वो फिर से ठूंठ हो जायेगा!!

ये जीवन भी,
समुद्र में चलने वाली
नाव की तरह है!
सही नाविक का साथ मिले
तो पार हो जाये,
ले डूबे पहचान सारी,
अगर गलत हाथ में
पतवार आ जाये!!

All Rights Reserved @Emotional Queen2020©

❤️ XO XO~ J योति 🙏

Photo Source~ Google

24 thoughts on “तुम हो सृजनकर्ता…🌺

  1. बहुत अच्छा लेक लिखा आपने
    एक निवेदन आआपसे हैं यहां
    यह लेख शेअर करना चाहता
    अपनी पोस्ट पर यहा।।

    आप कहो लिखे नाम आपका
    हमे नाम से कोई लोभ नही
    चोरी नही करना चाहते
    सत्य वचन आपने लिखे यहां।।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s